एक बार अकबर अपने दो बेटों के साथ नदी के किनारे गये| साथ में बीरबल भी थे| दोनों बटों ने अपने कपडे उतारे और नदी मे नहाने उतर गये| बीरबल को उन्होंने अपने कपडों की रखवाली करने के लिये कहा|

बीरबल नदी किनारे बैठ कर उन दोनों के आने का इंतज़ार करने लगे| कपडे उन्होंने अपने कन्धों पर रखे हुए थे| बीरबल को इस अवस्था में खडे देख अकबर के मन में शरारत सूझी| उन्होंने बीरबल को कहा, “बीरबल तुम्हे देख कर ऐसा लग रह है जैसे धोबी का गधा कपडे लाद कर खडा हो”|

बीरबल ने झट से जवाब दिया, ” महराज धोबी के गधे के पास केवल एक गधे का ही बोझ होता है किंतु मेरे पास तो तीन-तीन गधों का बोझ है”|

महाराजा अकबर निरूत्तर हो गए|

Advertisements