जिया ने फ़ेसबुक से लॉग आउट किया और अपने बेड पे लेट कर रोने लगी… नितिन और जेनिफर दोनों ऑन लाइन हैं, ज़रुर चैट कर रहे होंगे… आखिर मेरा मैसेज सीन होने के बाद भी नितिन कोई रिप्लाई क्यों नही कर रहा है… लगता है फ़रहीन ठीक ही
कह रही थी. दोनों के बीच इन दिनों कोई चक्कर चल रहा है. नितिन जेनिफर का हर पोस्ट लाईक कर रहा है, पिक्स पर कमेंट्स दे रहा है. उस दिन तो उसकी शायरी भी अपने वाल पर भी शेयर किया. ओह गॉड! क्या नितिन मेरे साथ सचमुच टाइम पास कर रहा है! ये बातें सोच-सोचकर जिया लगातार रोये जा रही थी….

नितिन और जिया तीन महीने से एक दूसरे के साथ हैं… आजकल की जेनेरेशन के शब्दों में ’सीइंग इच अदर’ … नितिन और जिया दोनों शहर के मशहूर मिशनरी कॉलेज “इविंग क्रिश्चियन कॉलेज” में ग्रेजुएशन 2nd इयर के स्टूडेंट है…
नितिन जब जिया से मिला उससे पहले  नितिन का पूजा के साथ एक छोटा-सा अफेयर भी था… वैसे उनमे ’नथिंग वाज़ सीरियस’ कह सकते है… इट वाज ‘पार्ट ऑफ ग्रोइंग अप’…
नितिन भी उन दिनों अपने ‘एक्स’ को भुलाने की क़ोशिश में था. दोनों कुछ क़दम साथ चले तो लगा रास्ता आसान हो रहा है. मगर अब…
जिया कुछ भी नहीं सोच पा रही थी… इतने सारे डेट्स… के. एफ. सी…. डोमिनोज़… आइनॉक्स… इस बार के नेवी बॉल में भी तो वही उसका डांस पार्टनर रही… दोनों ने ’बेस्ट डान्सिंग कपल’ का ख़िताब जीता. सभी कैसे कह रहे थे, उनकी जोड़ी बहुत जंचती है. तब तो नितिन भी कितना ख़ुश था उसके साथ। सारा क़सूर इस नॉनसेन्स जेनिफर का है. शी इज़ अ रियल बीच! हर हैंडसम लड़के पर डोरे डालती है. पढ़ना-लिखना तो है नहीं. सारा दिन कॉलेज कैंटिन में बैठकर आवारा लड़कों के साथ ’हा-हा, हू-हू’ करती रहती है. बड़े बाप की बिगड़ी हुई औलाद! जाने उसमें क्या है कि लड़के भी मधुमक्खी की तरह उसके पीछे पड़े रहते हैं.

ये सब सोचते हुए और रोते हुये ही जाने उसे कब नींद आ गई उसे पता भी नही चला… व्हाट्स एप्प के मैसेज अलर्ट से उसकी आँख खुली. मोबाइल में देखा तो स्क्रीन पर नितिन का नाम चमक रहा था. मैसेज खोला- ‘मिसिंग यू बेबी!’
झूठा! मक्कार! जिया बुदबुदाई, अपना निचला होंठ काटते हुये जिया ने किसी तरह अपनी रुलाई रोकी… मुझे मिस कर रहा है और उस चुड़ैल से चैट कर रहा है! शायद वह समझ रहा है कि उसे उसकी करतूत का कुछ पता ही नहीं. फेसबुक पर वह ऑन लाइन नहीं हुई थी. चैट ऑफ कर के ही दोनों पर नज़र रख रही थी.

थोड़ी देर बाद नितिन का दूसरा मैसेज आया था- “चुप क्यों हो?” उसने बिना कोई जवाब दिये फोन बंद कर दिया था. तभी उसकी मां दूध का गिलास लेकर कमरे में दाखिल हुई थीं- “जिया! पढ़ रही हो कि वही फ़ेसबुक पर बैठी हो? परीक्षा को सिर्फ चार दिन रह गये हैं. पिछली बार अर्थशास्त्र में फेल होते-होते बची हो, याद है ना?”
“अर्थशास्त्र?” आ गईं उपदेश झाड़ने… मन ही मन चिढ़ते हुये जिया ने मुंह बनाया…
“अर्थशास्त्र यानी इकॉनमिक्स! समझी? यहां सब अंग्रेज़ हैं!” मां ने झुंझलाकर दूध का गिलास टेबल पर रख दिया था- “कितनी बार कहा इनसे, परीक्षा के समय इंटरनेट का कनेक्शन बंद कर दे. सबके सब बिगड़ते जा रहे हैं. बाप उधर अख़बार या टी. वी. में सर डाले बैठा है, बेटा का रातदिन क्रिकेट, आई. पी. एल. और बेटी को फ़ेसबुक से फुरसत नहीं. रह जाती हूं बस एक मैं!”

“मां तुम फिर शुरु हो गई! मुझे पढ़ने दो…” जिया ने झल्लाकर कहा तो वे “हां जाती हूं, जाती हूं! पता है कितना पढ़ना है…” कहकर बड़बड़ाती हुई चली गई…

अपनी माँ के कमरे से बाहर जाते ही उसने उठकर ड्रेसिंग टेबल के आईने में अपना चेहरा देखा और चिंहुक उठी थी- ओह गॉड! ये पिंपल तो पक गया! कितना गंदा दिख रहा है! उस दिन नितिन कह रहा था ‘आई हेट पिंपल्स!’ सक्स! अब क्या करूं! उसे फिर रोना आने लगा था… बाल सीधे करने हैं, नेल पॉलिश लगाना है, स्नग फिट जिंस भी अभी तक सूखा नहीं! आईने में खुद को निहारते-निहारते जाने कितनी बातें उसे एक साथ परेशान कर रही थीं. टेस्ट ख़त्म होते ही जिम ज्वाइन करुंगी, जिंस टाईट होने लगी है. उस दिन राघव फैटसो कहकर चिढ़ा रहा था. और इस सांवलेपन का भी कोई ईलाज नहीं! पांच साल से शायद पांच सौ ट्युब निचोड़ डाले, मगर इन गोरे रंग का दावा करनेवाले क्रीम्स का कोई असर नहीं. सब झूठे, मक्कार! सोचते हुये उसने क्रीम का ट्युब उठाकर कमरे के कोने में फेंक दिया था. इसी गोरी रंगत की वजह से वो चुड़ैल जेनिफर सारे लड़को की फेवरिट बनी हुई है… रात के दो बजे जाने कितनी सारी चिंतायें लेकर वह सोने गई थी. इन सब के बीच उसकी बस पढ़ाई ही रह गई थी. जो वो नही कर पायी… ऐसा रोज़ होता था उसके साथ…

सुबह कॉलेज कैम्पस में जाते ही उसे बुरी ख़बर मिली थी- तान्या ने आत्महत्या कर ली है!
’कब?’, ’कैसे?’, ’क्यों?’ – जाने एक ही साथ उसने कितने सवाल कर डाले थे.
“कल रात! सुना काम्पोस का पूरा पत्ता गटक गई थी. सुबह उसकी मां कॉलेज के लिये उठाने गईं तो उसे मरी हुई पाया!”
“मगर क्यों! उसे जान देने की नौबत क्यों आई?” जिया जैसे अब भी इस बात पर यकीन नहीं कर पा रही थी.
वह बहुत क़रीब से उसे नहीं जानती थी. इस कॉलेज में तो वो दूसरे ब्रांच में थी वह. लेकिन उन दोनों ने 11वीं 12वीं की पढ़ाई एक ही साथ की थी… कितनी ज़हीन थी तान्या… पढ़ाई में हमेशा अव्वल! 12वीं के बोर्ड एग्जाम में पूरे राज्य में पांचवी नम्बर पर थी…
“कहते हैं किसी ने उसका एम. एम. एस. बनाकर नेट पर डाल दिया था. सब उसके एक्स ब्यॉय फ़्रेंड का नाम ले रहे हैं. उसी ने बदला लिया होगा. अपने मां-बाप के कहने पर उसने उसे छोड़ जो दिया था!” ज़िया की क्लासमेट शालू ने उसे बताया
“कौन, शफ़ीक़??”
जिया के पूछते ही शालू ने उसके मुंह पर हाथ रख दिया था- “शी… इनका नाम लेना भी खतरे से खाली नहीं! देखती नहीं, कैसे रातदिन कैंटिन में दबंगों के साथ बैठे रहते हैं ये लड़के? उस दिन किसी ने बाहर के लड़कों के कैम्पस में आने पर ऐतराज़ किया तो उन्होनें चाकू निकाल लिया. कभी किसी क्लास में नज़र आते हैं? प्रोफ़ेसर्स भी इनसे डरकर चलते हैं. स्पोर्टस टीचर सावंत और रंगनाथन की तो इनसे पूरी मिली-भगत है. इनके बल पर मैनेजमेंट पर भी रौब जमाने से बाज नहीं आते.”

उस दिन तान्या की आत्मा की शांति के लिये प्रार्थना और एक मिनट के मौन के बाद कॉलेज की छुट्टी कर दी गई थी. जिया का मन उदासियों में डूबा हुआ था. आज उसने कॉलेज कैम्पस में नितिन को भी कहीं नहीं देखा था. बाहर निकलते हुये उसे रहिला ने बताया था कि उसने नितिन और जेनिफर को बास्किन रोबिन्स आईस क्रीम पार्लर में साथ-साथ आईस क्रीम खाते हुये देखा था. “जेनिफर अपने फेवरिट स्ट्राबेरी फ्लेवर के लिये नितिन से ज़िद्द कर रही थी…” बताते हुये राहिला ने शालू की तरफ देखकर शरारत से आंख मारी… यह सब सुनकर जिया और उदास हो गई थी. आज सुबह से उसने कितने मिस कॉल दिये थे नितिन को, मगर उसने उसे मुड़कर फोन नहीं किया था. वह खुद भी उसे कॉल नहीं कर पा रही थी, क्योंकि उसके फोन में बैलेंस नहीं बचा था. पापा साढ़े तीन सौ का रीचार्ज हर महीने करवाते हैं, मगर इससे क्या होता है! 1GB का नेट पैक भी 15 दिन से ज़्यादा नहीं चलता. बाकी का रीचार्ज नितिन करवा देता है, मगर इस महीने जाने उसने क्यों नहीं करवाया. वह भी संकोच से कुछ कह नहीं पा रही थी।
कॉलेज से छूटने के बाद जिया सीधा घर के लिए निकल पड़ी… आज सुबह सुबह ही उसका मूड ऑफ हो गया. आज का दिन ही मनहूस है. हर तरफ से बस बुरी ख़बरें…

घर में आते ही बुआ को देखकर उसका रहा-सहा मूड भी एकदम से बिगड़ गया था. इस गोरखपुर वाली बुआजी को वह ज़रा भी बर्दास्त नहीं कर पाती. हर बात में दूसरों के फटे में टांग अड़ाना, ताने देना, जासूसी करना… रिश्तेदारों के बीच मैडम ’हिन्दुस्तान टाइम्स’ के नाम से जानी जाती हैं. इसकी ख़बर उसे, उसकी ख़बर इसे… बस अब यही एक काम बचा था इनके जीवन में. एकलौते बेटी की शादी हो चुकी है. ज़ाहिर है, बहू से भी नहीं बनती. ये सेर तो बहुरिया सवा सेर! इसलिये हर दूसरे, तीसरे महीने अचार, मठरी लेकर किसी ना किसी रिश्तेदार के घर छापा मारने निकल पड़ती थी. उनको देखकर सभी का मुंह बन जाता था.

पैर छूते ही उन्होंने अपनी तहक़ीकात शुरु कर दी थी – “बड़ी देर कर दी बिट्टो आज तो आने में!” फिर दीवार घड़ी की तरफ देखा था- ” बहू तो कह रही थी दो बजे तक घर आ जाती हो!” इसके बाद बाबूजी की ओर मुड़ी थीं – “समय बहुत ख़राब है नंदू! निर्भया वाला मामला देखा ना… दूसरों को दोष देकर क्या होगा. औरतों को खुद सम्हलकर रहना चाहिये… बाद में गला फाड़ते रहो, उससे क्या होने वाला! गया तो अपना ही जायेगा ना?”
उनकी बात सुनकर जिया का सर गरम हो गया था. मगर मां का चेहरा पीला पड़ गया था. बाबूजी उसे इशारे से शांत रहने को कह रहे थे. फिर भी उससे चुप रहा नहीं गया था – “अगर जमाना बुरा है तो औरतों को घर के भीतर रहना पड़ेगा? क्यों भला! अंदर वह रहे जिसकी नीयत ख़राब है. क्या हम जंगल में रहते हैं कि शेर, भालू के डर से बाहर ना निकलें? और अगर दरिंदे खुले घूम रहे हैं तो उन्हें पिंजरे में बंद करो! मर्दों के डर से औरतें बहुत घरों में रह चुकीं, अब घर में रहने की बारी उनकी है…. मैं तो कहती हूं शाम के बाद सारे लफंगों, दबंगों को लॉक अप्स में डाल देना चाहिये ताकि लड़कियां निश्चिंत होकर घर से बाहर निकल सके!”
जिया की बात सुनकर बुआ ठहाके मारकर हंसने लगी – “तेरी बेटी तो वाकई बहुत पढ़-लिख गई है रे नंदू!” फिर किसी तरह अपनी हंसी रोकते हुये व्यंग्य से बोली थी – “क़िताबों की दुनिया से बाहर निकलकर चीज़ों को देखना सीखो बिटिया, कितने धान से कितना चावल निकलता है पता चल जायेगा…”
उनकी बातों को टालने के लिये मां पहले ही भीतर चली गई थीं. अब जिया भी पैर पटकते हुये उनके पीछे चली गई थी. जाते हुये उसने इतना जरूर सुना, बुआ पापा से कह रही थीं – “मेरी नज़र में एक बहुत अच्छा लड़का है नंदू…”

खाने पे बैठकर जिया बड़बड़ाती रही – “इन्हें मना कर देना, मेरे मामलों में टांग ना अड़ाया करें!”
मां ने खाना परोसते हुये अपने होंठों पर उंगली रखी थीं – “शी…! ऐसा नहीं कहते. तुम्हारे भले की सोचती हैं. पढ़ी-लिखी नहीं हैं इसलिये बोलने का सलीका नहीं आता. महाकाली के दर्शन को आई है, चली जायेंगी परसों, दो दिन की ही बात है.”
जानकर जिया का मूड ख़राब हो गया – “दो दिन!”

उसने खाना शुरु किया ही था कि व्हाट्स एप्प पे मैसेज आने लगा. एक के बाद एक तीन. मोबाईल किताबों के बैग में था. शीट! मोबाईल साइलेंट पर करना भूल गई! वर्ना तो जिया हमेशा घर में घुसने से पहले मोबाईल को याद से साइलेंट मोड में कर देती है… कॉल लॉग, मैसेज सब मिटा देती है… उसने सारे लड़कों के नाम भी लड़कियों के नाम से सेव कर रखे हैं… ये मोबाईल भी जी का जंजाल बना हुआ है! कॉलेज में भी हर टीचर की नज़र से छिपाओ… बीच-बीच में क्लास के सी. आर. से तलाशी ली जाती है तो कभी प्रिंसिपल खुद छापा मारने आ जाता है… ओह गॉड! पूरी दुनिया हमें सुधारने के पीछे पड़ी हुई है! स्कर्ट घूटनों से दो इंच नीचे होनी चाहिये, शर्ट के सारे बटन बंद होने चाहिये, नो स्लीवलेस, नो टाइट्स, नो फैशन… जोजेफ ठीक ही कहता है- ‘ये बूढ़े-खुसट हम नौजवानों से जलते हैं! जो खुद करना चाहकर भी कर नहीं पाते, वही करने से हमें रोकते हैं!’ शालू कहती है- ‘और क्या! ये पादरी लोग खुद कुंठित होते हैं. ना जीते हैं ना किसी को जीने देते हैं! एक कुंठित, अपने जीवन से नाख़ुश आदमी दूसरों को ख़ुश देख नहीं पाता.’ इधर घर में मां की निगरानी! आंखें तो पूरी सर्च लाईट! ज़र्रा-ज़र्रा सूंघती फिरती हैं. कितने सारे तरीके ईज़ाद करने पड़े हैं उनकी खोजी नज़र से बचने के लिये- हर जगह मोबाईल को उल्टा रखना पड़ता है ताकि जब किसी का मैसेज या कॉल आये तो सामने वाले को नाम ना दिखे… सिम लॉक, स्क्रीन लॉक लगाया है…. हमेशा साइलेंट पर भी. अधिकतर बाथरुम में घुसकर मैसेज वगैरह करना पड़ता है. निकलते समय टॉयलेट का चेन खींच देती है ताकि किसी को शक ना हो. फिर भी मां को खटक ही जाता है- ‘क्या बात है, आजकल नहाने में इतना समय लगता है, बार-बार बाथरुम जाकर देर तक अंदर बैठी रहती है! पहले तो दो-चार छींटे लगाकर कौवा स्नान करके बाहर निकल आती थी! जिया चिढ़कर अपनी चोरी छिपाती- ‘अब तुम भी मेरे साथ बाथरुम चला करो, बैठकर देखना क्या-क्या करती हूं!’
एक दिन तो कॉलेज में गज़ब हुआ, लॉजिक के लेक्चर के दौरान टीचर के अचानक क्लास में आ जाने की वजह से जल्दीबाजी में  जिया ने अपना मोबाईल शर्ट में छिपा लिया… किसी सवाल का जवाब देने के लिये खड़ी हुई तो शर्ट में ही मोबाइल में हलचल हुई… साथ में ज़ोर की घों-घों और जलती-बुझती रोशनी! फोन वाइब्रेटर पर था! वह सबके सामने पानी-पानी हो गई….कोई पीछे से गाया- चोली के पीछे क्या है… पूरे क्लास में ठहाका पड़ गया…

चौथे मैसेज की आवाज़ पर मां ने उसे घूरा – “तू फिर मोबाईल कॉलेज ले गई थी? याद है पिछली बार दो हज़ार ज़ुर्माना भरना पड़ा था… प्रिंसिपल की डांट अलग से… अब कभी पकड़ी गई तो फिर कभी मोबाईल नहीं मिलेगा याद रखना…
“ठीक है, ठीक है!” जिया बुदबुदाई।

वह किसी तरह खाना ख़त्म करके अपने कमरे में चली आई थी. आज सब ने मिलकर उसका मूड ख़राब कर दिया था. इस बुआजी को भी अभी आना था. रही-सही क़सर अकेली ही पूरी कर देंगीं! सामने क़िताब खोलकर बैठी रही थी देरतक, मगर अंदर कुछ जा नहीं रहा था. बार-बार नज़र मोबाईल की तरफ घूम जाती थी. हर दो मिनट में व्हाट्स एप्प या hike पे किसी न किसी का मैसेज आता रहता है… परेशान होकर उसने फोन ऑफ करके ड्रऑर में रख दिया… ये मोबाइल भी ना इसके बिना भी रहना मुश्किल इसके साथ भी रहना मुश्क़िल…
मां ने पहले ही कह रखा है रिज़ल्ट ख़राब हुआ तो बुआ के लाये रिश्तों में से ही किसी एक को चुनकर शादी करवा देंगी… शादी और इतनी जल्दी…कभी नहीं… एकबार शादी की गांठ पड़ी नहीं कि ज़िन्दगी भर के लिये रसोई की काल कोठरी में बंद हो जाना पड़ेगा… अभी तो  पढ़ना है, फिर किसी मल्टी नेशनल में नौकरी करनी है, फॉरेन टूर पर जाना है, दुनिया देखनी है, जमकर रोमांस करना है… तब कहीं जाकर शादी! वह भी किसी अंबानी या सिंघानिया से. सोचकर जिया के मन में गुदगुदी होने लगी…

तीन घंटे पढ़ने के बाद जब उसने मोबाईल खोला , उसमें दनादन नितिन के व्हाट्स एप्प पे मैसेज आने लगे… पूरे 15 मैसेज. साथ में मिस कॉल की सूचना भी. उसने उसे जवाब में एक छोटा मैसेज कर दिया था- ‘एक्ज़ाम है… पढ़ाई करनी है…’
दूसरी तरफ से एक स्माईली के साथ तुरन्त एक मैसेज आया- ‘ओके मैडम क्यूरी!’

थोड़ी देर बाद जसिका का फोन आया था. कुछ देर बात करने के बाद कल बाहर घूमने जाने की बात कहकर उसने फोन रख दिया…

कमरे से निकलते हुये उसने सुना था, बुआजी मां से दबी जुबान में कह रही थीं- ‘बेटी की किताब, अलमारी को बीच-बीच में चेक कर लिया करो. हो सकता है कोई प्रेम पत्र-वत्र मिल जाये.’

सोने से पहले बुआ और मां कई बार कमरे में झांक गई थीं. उनके सोने के बाद क़िताब के बीच मोबाईल छिपाकर उसने फ़ेसबुक खोला. इनबॉक्स में दस मैसेज. उनमें से 5 नितिन के बाकि दूसरे दोस्तों के. जेनिफर ने फिर अपना प्रोफाइल पिक्चर बदला है. हूं! खुद को प्रियंका चोपड़ा समझती है. हर दो दिन में नया फोटो… मोटी कहीं की! इसे सबक सिखाती हूं! उसने अपने दूसरे वाले फ़ेक अकाउंट से उसकी तस्वीर के नीचे कमेंट डाल दिया था- ‘आंटी दिख रही हो, वजन घटाओ!’ ये नकली अकाउंट बड़े काम की चीज़ है. जिसे चाहो लतियाओ! झूठ का सहारा लेकर ही सच बोला जा सकता है. कितनी मजेदार बात है।
फेसबुक पे यही सब फन करते हुए अचानक से उसका नेट पैक खत्म हो गया… शीट! अब नेट पैक भी डलवाना पड़ेगा… पैसे किससे मांगू… पापा तो एक ही बार रिचार्ज करवाते है दुबारा वो करवाने से रहे… सुबह माँ को पटाना पड़ेगा…  मां भुनभुनाती रहती हैं कि इस लड़की के खर्चे बढ़ते ही जा रहे हैं, ऐसे ही फिजूल खर्ची करती रहेगी तो उसके दहेज के लिये कहां से पैसे जुड़ेंगे… यही सब सोचते हुए जिया सो गयी।

अगले दिन जिया तैयार होकर टाइम से कॉलेज पहुंची. आज पूरा क्लास खाली खाली नजर आ रहा था… दो चार पढ़ाकू टाइप के स्टूडेंट्स को छोड़ दे तो आज क्लास में कोई नही था… उसके ग्रुप का भी कोई नही दिख रहा था उसे… जिया ने सोचा जब आ ही गयी हूँ तो एक दो लेक्चर अटेंड ही कर लूँ. जिया सामने की बेंच पर अकेली बैठी. उसे याद आया आज शुक्रवार है और आइनॉक्स में ऋतिक रोशन की बैंग-बैंग लगी है. सब क्लास बंक करके वहीं गये होंगे… वैसे भी टिफिन के बाद आधा क्लास अक़्सर खाली ही हो जाता है. जब टीचर रोल नम्बर लेते हैं, स्टुडेंटस एप्लीकेशन पर सिग्नेचर करवाने उनके ईर्द-गिर्द जमा होते हैं. इस मौके का फायदा उठाते हुये कई लड़के-लड़कियां क्लास से बाहर खिसक लेते हैं.

खैर एक दो क्लास जैसे तैसे खत्म करके वो कॉलेज से निकल गयी… गांधी चौक के पास उसने नितिन और जेनिफर को बाईक से मीरामार बीच की तरफ की तरफ जाते हुये देखा. मगर उसने उन्हें टोका नहीं. एक अजीब-सी विरक्ति का भाव पैदा हुआ था उसके मन में- भाड़ में जाये सब…

चूँकि जिया के कॉलेज में इंटरनल एग्जाम होने वाले थे… इसलिए परीक्षा से पहले के दो दिन जिया ने खूब मन लगाकर पढ़ा… फोन उठाकर अलमारी में रख दिया. बुआ चली गई थीं इसलिये घर में शांति थी. उसके सारे पेपर अच्छे जा रहे थे.. आखिरी पेपर इकोनॉमिक्स का था. कॉलेज गई तो सबको यहां-वहां क़िताब में सर डाले हुये पाया. आंखों में उबासी, उड़े हुये बाल, लड़कियों के बिना मेक अप के चेहरे… सब के हाल कमोबेश एक जैसे… सब के सब एग्जाम से पीड़ित लग रहे थे, मगर जेनिफर का स्टाईल बरकरार था. वही स्नग फीट टॉप, फेडेड जींस और हाई हील सैंडल… सबके साथ साथ फादर आन्तिम भी उसे घूर कर देख रहे थे. जिया को देखकर उसी के साथ पढ़ने वाले टोनी ने उसे पास बुलाया था- “अच्छा! ज़रा ये बताओ बालिके! नेपोलियन का हाईट जानना हमारे लिये क्यों ज़रुरी है? इससे किसी का क्या भला होगा? कल सारी रात जगकर रीति काल की नायिकाओं का नख-शिख वर्णन पढ़ रहा था… यही सब पढ़-पढ़ाकर इंडिया सुपर पावर बनेगी क्या? बुल शीट” उसकी बात सुनकर जिया को हंसी आ गई. टोनी के बालों में आज जेल नहीं लगा था, इसलिये उसके हमेशा साही की तरह तने रहनेवाले नुकीले बाल आज चेहरे पर पस्त गिरे हुये थे. रतन एक कोने में बिना एकबार भी सर उठाये पढ़े जा रहा था. ग़रीब मां-बाप का एकलौता बेटा, उसे तीन बहनों की शादी करनी है. रात दिन इसी फिक़्र में घुला रहता है. उसे चार-पांच प्रतियोगिता परिक्षाओं में भी बैठना है. कॉलेज के बाद कई जगह ट्युशन पढ़ाता है. जाने सबकुछ कैसे मैनेज करता है!
रॉनी ने आकर टोनी से दो सौ रुपये उधार मांगे थे- “फॉर गॉड्स सेक! इज्ज़त बचा ले यार! गर्ल फ्रेंड कैंटिन में बैठी ऑडर पे ऑडर दिये जा रही है- मैक्सिकन पिज्ज़ा विथ थिक क्रस्ट एंड एक्सट्रा चीज़! मोटी बहुत खाती है! नहीं खिलाया तो जेम्स की बड़ीवाली बाईक में बैठकर अभी चली जायेगी…” उसका चेहरा यह कहते हुये रुआंसा हो आया था.
टोनी ने उसे उधार देने से मना कर दिया था – “गर्ल फ्रेंड अफोर्ड नहीं कर सकता तो रखता क्यों है?”
’ना’ सुनकर छुहारे-सा मुंह बनाकर वह एक और लड़के की तरफ बढ़ गया…

पेपर देकर जिया बाहर आई तो उसका मन बहुत हल्का हो आया. उसका पेपर बहुत अच्छा गया था. आज घर जाकर खूब सोना है… कितने दिन से पूरी नींद सोई नहीं. गुलमोहर के नीचे चलते हुये जिया ने सोचा था. कॉलेज कैम्पस में रास्ते की दोनों ओर कतार से गुलमोहर के पेड़ लगे हुये हैं, इस मौसम में सुर्ख फूलों से भरे हुये. झरे हुये गुलमोहर से रास्ता भी दूर-दूर तक लाल दिख रहा है. एक अच्छी बारिश के बाद चमकीली धूप निकली है. सबकुछ धुला-धुला, निखरा निखरा सा… हल्की चलती हवा में बोगन बेलिया के पौधे झूम रहे हैं. यह कॉलेज एक पहाड़ी पर है. ऊपर से एक तरफ मापुसा शहर दिखता है तो दूसरी तरफ पहाड़ की ढलान पर बसी झोपड़ पट्टी! मापुसा गोआ का एक छोटा और खूबसूरत शहर है… यहां आये हुये जिया के परिवार को दस साल हो गये हैं. जब वे यहां आये थे, जिया बहुत छोटी थी…
स्कूल में थी… अब तो इतने सालों में यही की होकर रह गई.. हालांकि मां बार-बार याद दिलाती हैं, यह हमारा समाज नहीं है! तेरी शादी भी यहां नहीं होनी है.
सोचते हुये वह कैम्पस के पिछले गेट तक पहुंच गई थी. उसकी आहट पाकर एक जोड़ा दायीं तरफ बने टेनिस कोर्ट की सीढ़ियों से झांककर देखा था और हड़बड़ाकर अपने कपड़े झाड़ते हुये उठ खड़ा हुआ था. लड़की के होंठ फीके थे और लड़के के रंगे हुये. उस जोड़े को देखकर उसे हंसी आ गई थी जिसे दबाते हुये वह अनजान बनकर आगे बढ़ गई… चारों तरफ यही हाल है. कोई गुलमोहर के पीछे छिपा है तो कोई प्रयोगशाला में दुबका बैठा है. लायब्रेरी में भी प्रेमी युगल घंटों अलमारियों के पीछे अंधेरे कोनों में घुसे किताबें ढ़ूंढ़ते रहते हैं. जाने वह कौन-सी किताब है जो उन्हें इतना ढूंढ़ने के बावजूद आज तक नहीं मिल सकी…  सोचते हुये वह गेट तक पहुंची थी जब पीछे से जसिका ने उसे आवाज़ दी.. दोनों साथ साथ अपने अपने घर की ओर चल दी…
कुछ दिनों बाद कॉलेज में वार्षिकोत्सव हुआ… हिंदी विभाग ने भी हिंदी महोत्सव मनाया.. जिया ने सब में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया… इन मौकों में पढ़ाई की बोरियत और एग्जाम के तनाव से कुछ निज़ात मिल जाती थी. दोस्तों के साथ मिलकर हर जगह घूम-घूमकर प्रोग्राम के टिकट्स बेचना, बैनर तैयार करना, डांस आदि का रिहर्सल… उसे हर बात में बहुत मज़ा आता था. एनुअल फंक्शन के दौरान उसने फैशन शो में भी हिस्सा लिया था और दूसरा ईनाम जीता था. ’मांडो’- विशेष पुर्तगाली गीत के लिये भी उसके ग्रुप को ईनाम मिला था…

क्रिचियन कॉलेजो में दिसंबर का तो पूरा महीना ही त्योहार और कार्यक्रमों का महीना होता है. तीन दिसंबर को सेंट ज़ेवियर्स के जन्मदिन के अवसर में पूरे गोआ में छुट्टी रहती है. उसदिन ओल्ड गोआ में बम जीसस चर्च जाने के बहाने वह दोस्तों के साथ आइनॉक्स में एक फ़िल्म भी देख आई थी. जेनिफर अचानक पढ़ाई छोड़कर अपनी मां के पास दुबई चली गई थी. उसके बाद जिया का नितिन उसके पास लौट आया था. आख़िर थोड़े दिनों के ना-नुकुर के बाद वह भी मान गई थी. दोनों का साथ-साथ घूमना, समय बिताना फिर से शुरु हो गया था. मन में एक कसक तो थी, दिल में कुछ शिकवे तो थे… उसे कभी कभी लगता था नितिन उसे सच्चा प्यार नही करता  मगर गिर भी जाने क्यों नितिन से दूर रहना उसके लिये आसान नहीं था. फिर वह ज़्यादा भाव दिखाती तो नितिन किसी और के पास चला जाता. उसके लिये लड़कियां लाईन लगाकर खड़ी रहती हैं. जसिका ने भी समझाया था – “मर्दों की छोटी-छोटी बातों को इग्नोर करना सीख. वफा इनके डी एन ए में नहीं होती. तुझ पर मरने की क़समें खायेंगे मगर नज़र दूसरों पर लगी रहेगी. वो तो गनीमत हुई, ऊपरवाले ने इन्हें कुत्तों की तरह एक अदद पूंछ से नहीं नवाज़ा…
वर्ना लडकियों के सामने लगातार हिलती ही रहती… उसकी बाते सुनकर जिया को रोते हुये भी उसे हंसी आ गई …

लायब्रेरी में पढ़ने का बहाना बनाकर इन दिनों वह नितिन के साथ उसकी बाईक में बैठकर घूमती रहती है. पिछली सीट में उसे बैठाकर जब नितिन अपनी बाईक फुल स्पीड से दौड़ाता,तो  वह रोमांच से भरकर उसकी पीठ से चिपक जाती और अपनी आंखें मूंद लेती. उसे लगता दोनों किसी घोड़े पर सवार होकर बादलों के बीच उड़े जा रहे हैं… सबकुछ स्वप्न सा प्रतीत होता, मांसल भी और स्पर्श से परे भी- देहातीत! अधिकतर वे शामों को वाघातोर या कलंगुट बीच पर सूर्यास्त देखने जाते… गीली रेत पर दूरतक नंगे पैरों साथ-साथ चलना, नमकीन हवा में सूखी मछली और खर-पतवार की उग्र, मादक गंध, जल पक्षियों का उदास शोर… कासनी आकाश की पृष्ठभूमि में क्षण-क्षण रंग बदलता समंदर, उसकी बेचैन लहरें… सबकुछ उसे किसी और दुनिया में खींच ले जाता. दूर तक बिखरी काली चट्टानों और काजू के महकते जंगलों के बीच पहली बार नितिन ने उसे अपने बाँहो में भरा था. उसने सिहरकर कहा- ‘जानते हो नितिन कहीं पढ़ा था, मरते हुये एक औरत को उसका पहला चुम्बन याद आता है! तुम्हारा ये स्पर्श मुझे मेरे आख़िरी पल तक याद रहेगा!’ नितिन ने जिया की इस बात पे उसे अपनी बाँहो में और जोर से कस लिया इसके बाद दोनों के बीच एक खूबसूरत-सा मौन देर तक के लिये पसर गया…
यूँ तो जिया को गोआ में रहते 10 साल हो गए थे मगर इन कुछ दिनों में नितिन के साथ उसने जितने खूबसूरत पल बिताएं उसके बाद ही वो जान पायी कि गोआ कितनी खूबसूरत जगह है. यहां की नाईट लाईफ- पब, डिस्कोथेक, मांडवी नदी पर तैरते रंग-बिरंगे कसिनोज़… पिछले साल पहली बार नये वर्ष की पार्टी में वह दोस्तों के साथ यहां के मशहूर शिस्कोथेक ’टिटोज़’ में गई थी, वह भी घर में झूठ बोलकर कि उसकी सहेली का एपेंडिक्स का ऑपरेशन हुआ है, उसे उसके साथ अस्पताल में रहना है. उसे झूठ बोलना अच्छा तो नहीं लगता, मगर क्या करे! मां-बाप ही इसके लिये मजबूर करते हैं. अगर आप सच नही सुन सकते तो अपको झूठ ही मिलेगा। मन पसंद चीज़ों को ताले में बंद करके रखोगे तो बच्चे चुराकर ही खायेंगे। पता नहीं क्यों लोग हमेशा नकारात्मकता में जीते हैं. हर वह चीज़ जो अच्छी लगे उसी से दूर रहो. हंसना नहीं, जीना नहीं, बस मुंह लटकाकर, मन मारकर जीते रहो… शायद इसी से सब कुंठित और व्यथित हैं. खुद मन मुताबिक जी नहीं पाते तो दूसरों को भी जीने नहीं देते. उसी दिन ’टिटोज़’ की पार्टी में उसने पहली बार लिमका में मिलाकर ’बोदका’ पिया था. और भी क्या-क्या- बकार्डी रिज़र्वा के व्हाईट रम में मिलाकर ज़माइकॉन फ्लेवर का ब्रीज़र, टकिला, कॉकटेल ब्लडी मैरी, व्हाइट मिस्ट, पिना कोलाडा… पहली बार, वह भी इतना कुछ!! थोड़ा-थोड़ा चखकर ही नशा हो गया था. उसे तब कहां पता था रम, बोदका, व्हिस्की आदि कभी एकसाथ मिलाकर नहीं पीते! गनीमत थी कि उस रात घर नहीं लौटना था. लेकिन जो भी हो, मज़ा बहुत आया था- ठहाके, रोशनी, म्युज़िक… काश वह ऐसी जगहों में अक़्सर आ-जा सकती! कितने दकियानुस हैं उसके परिवारवाले! ख़ासकर मां! उनका एक ही ध्येय है जीवन में- किसी तरह घेर-घारकर उसकी शादी करवा दे! मगर वह अपने जीवन को पूरी तरह से एंज्वाय करना चाहती है. एकबार शादी हो गई तो बस हो गई छुटटी! पहले-पहल तो दोस्तो की ज़िद्द की वजह से उसने शराब पी थी मगर अब उसे चस्का लग गया है. जब भी मौका मिलता है, पी लेती है. ’पीअर प्रेशर’ में बहुत कुछ करना पड़ता है. वर्ना आप भीड़ से अलग-थलग पड़ जाओगे. नितिन ने भी दोस्तों के कहने में आकर सिगरेट पीना शुरु किया था… ईसाइयों की शादी में जाना जिया को इसलिये भी पसंद है कि वहां शराब सर्व की जाती है और डांस भी जमकर होता है. अब वह भी बॉल डांस, बालट्ज़, टेन्गो, चा-चा, ट्वीट्स, राम्बा-साम्बा- सब कर लेती है. सारा दिन घूम-घूमकर वह इतना थक जाती कि शाम को घर लौटकर उससे और कुछ नहीं होता. बस किसी तरह खा, नहाकर सो जाती. अब तो क्लासेज़ भी वो रोज़ बंक कर रही थी. नितिन का इश्क़ उसके सर चढ़कर बोल रहा था. उसके साथ सारा दिन घूमना, देर रात तक फेसबुक पर चैट करना, मिल्स एंड बून्स सीरिज के रोमानी उपन्यास पढ़ना… कभी-कभी मन में ग्लानि के भाव भी उत्पन्न होते मगर वह अपने दिल के हाथों मजबूर हो गई थी… उसे नही पता क्या सही क्या गलत बस उसे जो अच्छा लगता वो किये जा रही थी…

उसे नितिन के सिवा कुछ सुझ नहीं रहा था.

इस बीच उसी के कॉलेज में पढ़ने वाले शीतल और अशोक ने अचानक से सामंतवाडी भागकर शादी कर ली थी. गोआ में पुर्तगाली कानून होने की वजह से रजिस्ट्री मैरिज करने में काफी दिक्कतें आती है इसलिये यहां के प्रेमी युगल अक़्सर महाराष्ट्र के सामंतवाडी में जाकर विवाह कर आते हैं. वहां पंडित थोड़े-से पैसों के बदले में कहीं भी बैठाकर शॉर्टकट में शादी करा देते हैं और वह वैधानिक मानी जाती है. शीतल यहां के एक बड़े मंदिर के पुरोहित की बेटी है और अशोक दलित. शीतल के माता-पिता शीतल की शादी करना चाह रहे थे, अंत: दोनों को यह आकस्मिक निर्णय लेना पड़ा था. अब दोनों को उनके घरवाले घर से निकाल चुके थे और वे यहां-वहां भटकते फिर रहे थे. आठ-दस दिन तो दोस्तों ने चंदा करके उनका खर्च उठाया था इसके बाद अशोक ने एक शाइवर कैफे में नौकरी ढूंढ़ ली थी. शीतल भी कुछ बच्चों को ट्युशन पढ़ाने लगी थी. शादी के बाद दोनों की ज़िन्दगी एकदम से बदल गई थी. घर से खा-पीकर कॉलेज के कैंटिन और पार्क में इश्क लड़ाने में और ज़िन्दगी की हकीकतों का सामना करने में बहुत फर्क होता है. थोड़े ही दिनों की मुफलिसी ने दोनों की सिटटी-पिटटी गुम कर दी थी. उनका हश्र देखकर दूसरे प्रेमियों के माथे भी ठनकने लगे थे.

धीरे धीरे फाइनल एग्जाम के दिन सर पर आ गयेे. सारे टीचर्स विद्यार्थियों के पीछे उनका हौसला बुलंद करने में लगे हुये थे. प्रिंसिपल बार-बार कक्षा में आकर लेक्चर झाड़ते. इन सब में मिस सलदाना की बात जुदा थी. उनकी साड़ी, लिपस्टीक, गहने- सब मैचिंग होते. बिल्कुल ’मैं हूं ना’ की सुष्मिता सेन की तरह. सब उन्हें पीठ पीछे सुस्मिता सेन कहकर बुलाते थे. उन्हें भी इस बात का अहसास था कि वे सुस्मिता सेन की तरह दिखती हैं तभी हर बात में उनकी नकल उतारती रहती थी. मिस सलदाना के क्लास में विद्यर्थियों की उपस्थिति हमेशा सौ प्रतिशत रहा करती थी. उन्हें सब सुनते कम और देखते ज़्यादा थे. दूसरे क्लास के विद्यार्थी भी उनके लेक्चर में आ बैठते थे. उन्होनें भी एकदिन जिया को स्टाफ रुम में बुलाकर बहुत समझाया था. बताया था कि नितिन उसके लिये ठीक लड़का नहीं है. वह उसकी संगति छो़ड़कर पढ़ाई में मन लगाये. उनके सामने तो जिया चुपचाप सर हिलाती रही थी मगर बाहर आकर मुंह बनाया था- ऊंह! बड़ी आई समझाने वाली खुद तो जाने कितनो को फंसाकर घूमती है मुझे बता रही है कौन अच्छा है कौन बुरा…

इस बार एग्जाम में बैठने लायक उसकी तैयारी बिलकुल नही थी.क्योकि वह पिछले कुछ दिनों से पढ़ाई लिखाई से कोसो दूर चली गयी थी… वह तो गनीमत थी कि मां गांव गई हुई थीं वर्ना उसकी अच्छी-ख़ासी मरम्मत हो जाती. मां परीक्षा के समय उसे इस तरह कभी छोड़कर नहीं जातीं, मगर दादी की बिमारी की ख़बर आ गई थी. घर में उनके ना होने की वजह से उसे और ज़्यादा छूट मिल गई थी. पापा सारा दिन दफ्तर में रहते. भाई भी माँ के साथ गाँव गया हुआ था.. इसी माहौल का फायदा उठाकर अब नितिन छिप-छिपकर उसके घर में भी आने लगा था. उसकी मांगों के साथ-साथ उसकी हिम्मत भी बढ़ती जा रही थी. जिया उसके सामने बेबस होकर रह जाती. उसे किसी बात के लिये ना करना उसके वश की बात नहीं रह गई थी. रोज दोनों रोमांस की नई नई सीढिया चढ़ने उतरने लगे…

परीक्षा की तैयारियो के बीच ही कॉलेज में एक दुर्घटना घटी थी. बी. ए. दूसरे वर्ष में में पढ़ने वाली काम्या महाजन अपने तीन-चार दोस्तों के साथ एक पार्टी में गई थी जहां उसके कोल्ड ड्रिंक में कोई नशीली चीज़ मिलाकर कुछ लड़को ने उसके साथ बलात्कार किया था. यही नहीं, बलात्कार के बाद गला घोंटकर उसे जान से मार भी दिया था. आंजुना बीच में दूसरे दिन उसकी लाश पाई गई थी. इस घटना से कॉलेज के बच्चों में सनसनी फैल गई थी. किस बेरहमी से उसकी जान ली गई थी. बाद में उसकी हत्या के ज़ुर्म में जिन तीन लड़कों को पकड़ा गया था वे सभी ब्राउनी याने ड्रग लेने वाले पाये गये थे. कॉलेज के ही नहीं, कान्वेंट स्कूल के बच्चे भी आजकल ड्रग के शिकार होते जा रहे थे. स्कूल के आसपास आइसक्रीम, चाट आदि बेचनेवाले बच्चों में पहले ड्रग की आदत डालते फिर उन्हें ड्रग बेचते. कुछ दिन पहले ही प्रिंसिपल ने कॉलेज हॉस्टल से दो लड़कों को इस वजह से निकाल बाहर किया था. वे रातों को किसी सुनसान जगह में या हॉस्टल की छत पर बैठकर ड्रग लेते थे. हॉस्टल से निकाले जाने के बाद उनमें से एक लड़का अपना मानसिक संतुलन खो बैठा था और अब उसका ईलाज चल रह था. इन सारी घटनाओं ने जिया को बेहद परेशान कर दिया. लेट नाईट पार्टियों के प्रति वह सशंकित हो उठी थी. वहां भी उसने अपने दोस्तों को ड्रग सिगरेट में डालकर पीते हुये या रुपहली पन्नियों में लेकर उसे नश्वार की तरह सूंघते हुये देखा था. नितिन ने बहुत ज़िद की थी मगर उसने नहीं ली थी. सबने कहा भी था- लेकर देख, एकदम जन्नत में पहुंच जायेगी!

इन दिनों उसकी परेशानी का एक कारण और भी था. उसका पीरियड दो महीने से मिस हो रहा था. कॉलेज में मिस इवॉन के फेयरवेल पार्टी में उसने दूसरी लड़कियों के साथ मिलकर एक मणिपुरी नृत्य प्रस्तुत किया था…
जिसके लिये उसे बांस की लाठियों के बीच बहुत कूदना पड़ा था. उसे लगा था इस वजह से उसके पीरियड में देर हो रही है. मगर देखते-देखते जब दूसरा महीना भी आकर गुज़र गया,तो वह चिन्तित हो उठी. अब तो रह-रहकर जी भी मिचलाने लगा था. मन कच्चा हो रहा था. हमेशा गुस्सा और रोना आता रहता. बात-बेबात चिढ़ भी जाती. जब भी घर में या कहीं तलने या भुनने की गंध आती उसे उल्टी हो जाती. इसी चक्कर में वह कई दिनों तक कॉलेज लायब्रेरी भी जा नहीं पाई थी. थोड़े दिन बाद उसकी खोज-ख़बर लेने जसिका उनके घर चली आई…  उस समय वह चुपचाप बिस्तर में लेटी हुई थी. उसे देखकर जसिका को बहुत हैरत हुई थे – “अरे! ये क्या हाल बना रखा है! कुछ खाती पीती नहीं क्या?”
जसिका ने तो मज़ाक में कहा था मगर उसकी बात सुनकर जिया एकदम से भरभराकर रो पड़ी थी. उसे इस तरह रोते देख जसिका घबरा उठी थी- “अरे रे… रोती क्यों है! मै तो मज़ाक कर रही थी!” मगर फिर उसकी सारी बातें सुन वह भी गंभीर हो गई थी – “मुझे तो कुछ ठीक नहीं लग रहा है!”

जसिका फार्मेसी जाकर प्रेगनेन्सी कीट खरीद लाई थी. टेस्ट का नतीजा पॉज़िटिव आया था. जिया के होश उड़ गयेे. जसिका भी चिन्तित हो उठी थी. मामला संगीन था. जिया को शांत करना कठिन हो रहा था उसके लिये. वह रोते हुये बांस के पत्ते की तरह थरथरा रही थी. मां कुछ ही दिनों में वापस आने वाली थीं गांव से. साथ में बुआ भी आ रही थी. फाइनल एग्जाम में भी ज़्यादा दिन नहीं बचे थे. बहुत सोच-विचार कर जसिका ने सलाह दी थी कि पहले नितिन से बात की जाय. देखे वह क्या कहता है. मगर हज़ार क़ोशिश के बाद जब जिया ने किसी तरह उससे फोन पर बात की , तो सारी बातें सुनकर वह देर तक चुप रहा और फिर किसी तरह खांसते हुये कहा था वह जल्द ही इस समस्या को सुलझाने के लिये कोई रास्ता निकाल कर उसे फोन करेगा.

जिया इसके बाद बेसब्री से उसके फोन का इंतज़ार करती रही मगर नितिन ने दुबारा कभी फोन नहीं किया। वह जब भी उसे फोन करने की क़ोशिश करती उसका फोन स्वीच ऑफ ही मिलता. दिन बीतने के साथ-साथ उसकी घबराहट बढ़ती ही जा रही थी. उसकी पढ़ाई-लिखाई तो एकदम बंद पड़ गई थी. उसे कुछ भी सूझ नहीं रहा था कि वह क्या करे. बस एक जसिका का ही सहारा था. और एक दिन जसिका ने ही आकर बताया था कि आंजुना के बीच पार्टी में ड्रग बेचते हुये नितिन गिरफ्तार हो गया. जिया को पता था अच्छी बॉडी के कारण नितिन ऐसी पार्टियों में बाउंसर की हैसियत से जाया करता है. मगर वह ड्रग भी बेचता था! सुनकर जिया को गश  आ गया…

आखिर जसिका ने कोई और रास्ता ना देख अपने ब्यॉय फ्रेंड शिवेन से बात की थी. शिवेन की कोई मुंहबोली भाभी एक प्राईवेट क्लीनिक में नर्स थी. उस क्लीनिक का डॉक्टर चुपचाप अबॉर्शन करने के लिये तैयार हो गया था. उसने दो-चार दिन के भीतर अबॉर्शन करवा लेने के लिये कहा था क्योंकि गर्भ तीन महीने से ज़्यादा का हो गया था. अबॉर्शन के लिये दस हज़ार रुपये की ज़रुरत थी. जिया के पास सिर्फ हज़ार रुपये ही थे. बाबूजी उसे जेब खर्च के लिये रोज़ बीस रुपये देते थे जो उसके लिये कम पड़ते थे. उसने अपनी गुल्लक तोड़कर देखी थी. ढेर-सी रेज़गारी गिनकर सात सौ रुपये और मिले थे. और कोई रास्ता ना देख उसने अपने कान की सोने की बूंदे उतारकर शिवेन को बेचने के लिये दे दी थी. मां के सामने इसके लिये क्या बहाना बनाना है ये बाद में सोचा जाएगा. उन्हें बेचकर और पांच हज़ार का बन्दोबस्त हो गया था. जसिका ने भी हज़ार रुपये उधार दिये थे. शिवेन की भाभी के कहने पर डॉक्टर बाकी पैसे बाद में लेने को तैयार हो गया था.

परीक्षा में सिर्फ सात दिन रह गये थे. मां और बुआ गांव से आ गई थी. जिया की हालत देखकर दोनों चौंके थे. जिया ने पढ़ाई के टेंशन का बहाना बनाया था. वह अक़्सर अपने कमरे में बंद रहती. उसे बुआ की भेदती नज़रों से डर लगता. उसे प्रतीत होता जैसे बुआ उसे आर-पार देख रही हैं. अपने कमरे के एकांत में पड़ी-पड़ी वह चुपचाप रोती रहती थी. उसे ऐसे में नितिन की बहुत याद आती थी. उसने उसे एकबार मुड़कर फोन नहीं किया था. अकेली मरने के लिये छोड़ दिया था. गिरफ्तार तो वह इसके कई दिनों बाद हुआ था. आख़िर वह भी दूसरे मर्दों की तरह निकला… उसे उससे प्यार नहीं था, बस जिस्म की भूख थी. वह जितना सोचती उतना ही उसके दुख बढ़ जाते. जसिका ने इस बीच आकर बताया था डॉक्टर कहीं बाहर गया हुआ है. सात तारीख की सुबह तक ही लौटेगा. उसी दिन दोपहर को उसका अबॉर्शन हो पायेगा. सुनकर जिया और बेचैन हो उठी… आठ तारीख से उनका फाइनल एग्जाम शुरु होने वाला था। मगर क्या किया जा सकता था. अबॉर्शन तो करवाना ही था. तय हुआ, जसिका के घर जाकर पढ़ाई करने का बहाना करके वह घर से निकलेगी और डॉक्टर के क्लीनिक जाकर अबॉर्शन करवा लेगी.
शिवेन की भाभी ने बताया था, ऐसी चीज़ें बहुत आसान होती हैं और दो-चार घंटे आराम करके वह घर जा सकती है.

सात तारीख को वह सुबह जसिका के साथ घर से निकली थी. मां ने बहुत बुरा माना था. मना भी किया था. बुआ भी उनका साथ दे रही थीं मगर किसी तरह उन्हें मनाकर वह घर से निकली. गली के मोड़ पर शिवेन उनके लिये इंतज़ार कर रहा था. तीनों साथ क्लीनिक पहुंचे थे. क्लीनिक में शिवेन की भाभी ने उनका स्वागत किया था. जिया बुरी तरह घबराई हुई थी. उसे रह-रहकर रोना आ रहा था. जसिका ने उसका हाथ पकड़ा हुआ था. उसकी हथेलियां पसीने से भीगी हुई थी. जसिका और शिवेन को पढ़ाई के लिये लौटना था. भाभी ने उन्हें आश्वासन दिया था कि वे सब संभाल लेंगी और जिया का ध्यान रखेंगी.

जसिका और शिवेन के जाते ही जिया का दिल बुरी तरह से घबराने लगा था. ना जाने क्यों अचानक उसे मां की याद आने लगी थी. जी चाह रहा था किसी तरह वह अपनी मां तक पहुंच जाये और उनकी गोद में छिप जाये. यह क्लीनिक एक निहायत गंदी, अंधेरी गली में था. वहां का वातावरण भी बहुत दमघोंटूं और उदासी भरा था. बीमार मरीज़ों की भीड़, चिड़चिड़ी नर्से, बदतमीज़ वार्ड ब्यॉयज़, दवाई, डेटॉल, फिनाइल की गंध और इधर-उधर से यदा-कदा आती कराहने की आवाज़ें. शायाद ओ. टी. में किसी की डिलीवरी हो रही थी. रह-रहकर उसकी तेज़ चीखें सुनाई पड़ रही थी. एक कोने में कोई सिसक-सिसककर रो रहा था. नर्सों की बातों से लग रहा था किसी का नवजात बच्चा मर गया है. “ये बच्चे होते क्या हैं, भीगे हुये रूई के नर्म गोले! आग़ लगाते ही भाप बनकर उड़ जाते हैं या गर्मी में ओस की बूंद की तरह पिघल जाते हैं, बस…” सुनकर उसने अनायास अपने पेट पर हाथ फेरने लगी. थोड़ी ही देर बाद सफेद तौलिये में लपेटकर एक खिलौने-से बच्चे को कुछ लोग रोते-सिसकते हुये ले गये.. जिया दुपट्टे से अपना चेहरा छिपाकर किसी तरह बैठी रही.

काफी देर हो जाने के बाद शिवेन की भाभी उसे ओ. टी. में बुलाकर ले गई. नीला गाउन पहनकर ऑपरेशन टेबल पर लेटकर वह अपने आसपास चलती गहमा-गहमी को महसूस करती रही थी. उसे अबॉर्शन के लिये तैयार किया जा रहा था. युनिफॉर्म में नर्से, बगल की मेज़ पर सजे तरह-तरह के औज़ार, चाकू-छुरियां, बर्तन, दवाइयां, सर के ऊपर स्पॉट लाईटस… फुसफुसाती आवाज़ें, दवाईयो की उग्र गंध… देखते-सुनते हुये उसकी आंखों से अनायास आंसू बहने लगेे. जाने क्या-क्या याद आने लगा उसे। उस पल  उसे अपना बचपन, अपनी प्रिय गुड़िया, पापा, मां, छोटा भाई, नितिन, उसका पहला चुम्बन,कॉलेज, कैंटीन जाने क्या क्या… सब उसकी आँखों में एक फ़िल्म सा तैरने लगा…

उसकी भरी हुई आंखों में एक परी का सफ़ेद अक्स लहराया. उसे एनेस्थेशिया का इंजेक्शन देते हुये वह गुनगुनाकर कह रही थी- रो मत, सब ठीक हो जायेगा, अब तुम एक अच्छी बच्ची की तरह सो जाओ… और जिया सचमुच एक अच्छी बच्ची की तरह अपने सारे सपने और दुख के साथ चुपचाप सो गई…

आज परीक्षा का दिन है. कॉलेज कैम्पस में चारों तरफ चहल-पहल है. सभी के हाथों में खुली क़िताबें हैं, आंखों में जगार और चेहरे पर तनाव. राहत को टॉप करना है . वह पूरी तरह से तैयार है फिर भी तनाव में है. रतन नर्वस हो रहा है. वह किसी भी तरह ख़राब रिजल्ट नहीं कर सकता. उसपर उसकी तीन बहनों की जिम्मेदारी है. रोशन अपनी स्पोर्ट्स कार में आया है और कैंटिन में बैठा मस्ती कर रहा है. पढ़ाई का उसे कोई टेंशन नहीं. आगे चलकर उसे अपने बाप का जमा-जमाया बिजनेस सम्हालना है. ऋतु की आंखें उसके मोटे चश्मे के फ्रेम के पीछे पढ़-पढ़कर सूज गई हैं. उसे बहुत पढ़ना है, आई. ए. एस. ऑफिसर बनना है. मौज-मस्ती के लिये तो उम्र पड़ी है. अभी आलतू-फालतू चीज़ों में समय नहीं बर्बाद करना है उसे.

परीक्षा शुरु होने में थोड़ी ही देर रह गई है मगर एक कोने में बैठी हुई जसिका अपने सामने फैली हुई क़िताब में किसी भी तरह ध्यान नहीं लगा पा रही है. उसकी आंखों के सामने रह-रहकर जिया का परेशान सा मासूम चेहरा घूम रहा है. जाने कैसी है वह…

दूसरी तरफ जिया के पापा और मां जिया की डायरी में जसिका का फोन नम्बर ढूढ़ रह है.. उसे फोन करने के लिये. जिया ने उसके साथ जाने के बाद कल दोपहर के बाद एक बार भी फोन नहीं किया था. जसिका का घर कॉलेज के पास था. हो सकता है जिया वही से कॉलेज चली जाये परीक्षा देने के लिये. ऐसा उसने पहले भी किया है. मगर उसे फोन तो करना चाहिये था एक बार. सुबह देर तक रास्ता देखने के बाद अब वे परेशान हो रहे थे और जिया के पापा जिया की मां को यह कहते हुये डांट रहे थे कि उन्होनें जसिका का फोन नम्बर कहीं लिखकर क्यों नहीं रखा…

…और इन सब से दूर एक अंधेरी गली के छोटे-से क्लीनिक के ऑफिस में शिवेन की भाभी कांपते हाथों से जसिका का नम्बर डायल कर रही थी. कल तक तो उसने किसी तरह उसे ये बोलकर बहला लिया था कि जिया को ज़्यादा रक्तपात हो जाने की वजह से ऑबजर्वेशन में रखा गया है और उसे आने की ज़रुरत नहीं, वे सब सम्हाल लेंगी… मगर अब उसे बताना ही पड़ेगा कि अपने अजन्मे बच्चे के साथ जिया भी इस दुनिया को अलविदा कह गई है. वह जाकर जिया के परिवार को सूचित कर दे… इसी क्लीनिक के एक तरफ सीलन और गहरे सन्नाटे भरे अंधेरे कॉरीडोर के आखिरी छोर पर स्ट्रेचर पर सफ़ेद कपड़े से ढकी एक ठंडी, लावारिश लाश पड़ी है, सर से पांव तक निचुड़ी हुई, एकदम ज़र्द, रक्त शून्य, उसकी कोख के साथ उसके सीने का पिंजरा भी खाली हो गया है… अब ना उसमें सांसें हैं, ना जीवन है, ना कोई सपना… सबकुछ खत्म हो गया… शेष कुछ नही बचा… अब यहां- ना बसंत है और ना ही उसकी प्रतीक्षा … किसी को अबतक पता नहीं, इस साल की गिनती में एक मौसम कम पड़ गया है, इस बार का बसंत बिना जीवन की देहरी उतरे दबे पांव वापस चला गया है, शायद फिर कभी ना लौटने के लिये… मगर मृत्यु की इस अडोल, अझेल चुप्पी के बीच जाने कैसे किशोर जिया की दो खूबसूरत आंखें अभी भी जिन्दा हैं और उनमें मचलते समंदर की सुनहरी लहरों में वह स्पष्ट देख रही है दो उभती-चुभती लाशें… एक उसकी और दूसरी एक लावारिस नवजात की… वह अपने पहले चुम्बन को अब भी भूली नहीं है… वह उसके मृत होंठों पर अब भी जीवित है…
लेकिन अफ़सोस सिर्फ इतना रह गया कि एक और जिया हमारे समाज में चारो ओर तेजी से फैलते जा रहे इस अनैतिक दूषित कलुषित और भयवाह  कान्वेंट कल्चर के आधुनिक इश्कियापे की भेंट चढ़ गयी…

लेखक- सौरभ पाण्डेय “शौर्य”

Advertisements