vayu mudra

वायु मुद्राः तर्जनी अर्थात प्रथम उँगली को मोड़कर

ऊपर से उसके प्रथम पोर पर अँगूठे की गद्दी

स्पर्श करायें। शेष तीनों उँगलियाँ सीधी रहें।

लाभः हाथ-पैर के जोड़ों में दर्द, लकवा, पक्षाघात,

हिस्टीरिया आदि रोगों में लाभ होता है। इस मुद्रा

के साथ प्राण मुद्रा करने से शीघ्र लाभ मिलता है।

Advertisements