कितना आसाँ था तेरे हिज्र में मरना जानाँ
फिर भी इक उम्र लगी जान से जाते जाते
Kitna aasaan tha tere hizra mein marna jaana
Phir bhi ik umar lagi jaan se jaate jaate
*****
झेले हैं जो दुःख तूने ‘फ़राज़’ अपनी जगह हैं
पर तुम पे जो गुज़री है वो औरों से कम है
Jhele hain jo dukh tune ‘Faraz’ apni jagah hain
Par tum pe jo gujari hai wo auron se kam hai

*****
घर से निकले थे कि दुनिया ने पुकारा था ‘फ़राज़’
अब जो फुर्सत मिले दुनिया से तो घर जाएँ कहीं
Ghar se nikale the ki duniya ne pukara tha ‘Faraz’
Ab jo fursat mile duniya se to ghar jaayen kahin

*****

उंगलियाँ आज तक इसी सोच में गुम हैं “फ़राज़”
उसने कैसे नए हाथ को थामा होगा

Ungaliyaan aaj tak isi soch mein gum hai ‘Faraz’
Usne kaise naye haath ko thaama hoga

*****

जब भी दिल खोल के रोए होंगे, लोग आराम से सोए होंगे
वो सफ़ीने जिन्हें तूफ़ाँ न मिले, नाख़ुदाओं ने डुबोए होंगे
Jab bhi dil khol ke roye honge, log aaram se soye honge
Wo safeene jinhein toofaan na mile, nakhudaaon ne dubooye honge
*****
तुम तक़ल्लुफ़ को भी इख़लास समझते हो ‘फ़राज़’
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला
Tum taqalluf ko bhi ikhlaas samjhte ho ‘Faraz’
Dost hota nahin har haath milaane waala
*****
जी में जो आती है कर गुज़रो कहीं ऐसा न हो
कल पशेमाँ हों कि क्यों दिल का कहा माना नहीं
Jee mein jo aati hai kar gujaron kahin aisa na ho
Kal pasheman hon ki kyon dil ka kaha maana nahin
*****
वो ज़िन्दगी हो कि दुनिया ‘फ़राज़’ क्या कीजे
कि जिससे इश्क़ करो बेवफ़ा निकलती है
Wo zindagi ho ki duniya Faraz kya kije
Ki jisse ishq karo bewafa nikalti hai
*****
ज़िन्दगी पर इससे बढ़कर तंज़ क्या होगा ‘फ़राज़’,
उसका ये कहना कि तू शायर है, दीवाना नहीं।
Zindagi npar is se badhkar tanz kya hoga Faraz
Uska ye kehana ki tu shaayar hai, deewana nahin
*****
बहुत अजीब है ये बंदिशें मुहब्बत की ‘फ़राज़’
न उसने क़ैद में रखा न हम फरार हुए
Bahut ajeeb hai ye bandishein miuhabbat ki ‘Faraz’
Na usne qaid mein rakha na hum faraar hue
Advertisements