इश्क की राह में दो हैं मंजिलें “फ़राज़”
या दिल में उतर जाना या दिल से उतर जाना.
Ishq ki raah me do hain manzilein “Faraz”
Ya dil me utar jana, Ya dil se utar Jana
*****
ज़माने के सवालों को मै हंस के टाल दूं “फ़राज़”
लेकिन नमी आँखों की कहती है मुझे तुम याद आते हो
Zamane ke sawalon ko mai hans ke taal doon “Faraz”
Lekin nami aankho ki kehte hai mujhe tum yaad aate ho
*****
वफायें कोई हमसे सीखे “फ़राज़”
जिसे टूट के चाहा उसे खबर भी नहीं
Wafayein koi humse seekhe “Faraz”
Jise toot ke chaha usey khabar bhi nahi
*****
ये वफ़ा तो उन दिनों की बात ही “फ़राज़”
जब लोग सच्चे और मकान कच्चे हुआ करते थे
Ye wafa toh un dino ki baat hai “Faraz”
Jab log sacche aur makaan kacche hua karte the
*****
मेरे सजदों में कमी तो न थी “फ़राज़”
या मुझ से भी बढ़कर के किसी ने उसको माँगा था खुदा से
Mere sajdon me kami to na thi “Faraz”
Ya mujhse bhi badh kar k kisi ne usko manga tha khuda se
*****
वो अपने फायदे के लिए आ मिले थे हमसे “फ़राज़”
हम नादान समझे के हमारी दुआओं में असर है
Wo apne faayde k liye aa mile the hum se “Faraz”
Hum naadaan samjhe k humari duaon me asar hai
*****
हमारे सब्र की इंतहां क्या पूछते हो “फ़राज़”
वो हम से लिपट के रो रहे थे किसी और के लिए
Hamare sabar ki inteha kya puchte ho “Faraz”
Wo hum se lipat ke ro rahe the kisi aur ke liye
*****
रूठ जाने की अदा हम को भी आती है “फ़राज़”
काश होता कोई हमको भी मनाने वाला
Rooth jane ki ada hum ko bhi ati hai “Faraz “,
Kaash hota koi hum ko bhi manane wala
*****
ये ही सोचकर उसकी हर बात को सच माना है “फ़राज़”
के इतने खूबसूरत लब झूठ कैसे बोलेंगे…..??
Yehi soch kar uski har baat ko such mana hai “Faraz”
Ki inte khoobsurat lab jhuth kaise bolenge….???
*****
राज़ ऐ दिल किसी को न सुनाना “फ़राज़”
दुनिया में सब हमराज़ बदल जाते हैं
Raaz-E-Dil kisi ko na sunana “Faraz”
Duniya me sab, Humraaz badal jate hain

 

Advertisements