तेरी इस बेवफाई पे फिदा होती है जान अपनी “फराज़”
खुदा जाने अगर तुझमें वफा होती तो क्या  होता
Teri is bewafai per fida hoti hai jaan apni “Faraz”,
Khuda jane agar tujhme wafa hoti to kya hota
*****
दुनीया का भी अज़ीब दस्तूर है “फराज़”,
बेवफाई करो तो रोते हैं, वफा करो तो रुलाते हैं
Duniya ka bhi ajeeb dastoor hai “Faraz”,
Bewafayi karo to rote hain,Wafa karo to rulate hain
*****
बडा नाज़ था उनको अपने परदे पे “फराज़”
कल रात वो ख्वाब में सर-ऐ-आम चले आये
Bada naaz tha unko apne parde pe “Faraz”
Kal raat wo khawab me Sar-E-Aam chale aaye
*****
शिद्दत-ए-दरद से शर्मिंदा नहीं मेरी वफा “फराज़”
दोस्त गहरे हैं तो फिर जख्म भी गहरे होंगे
Shiddat-E-Dard se sharminda nahi meri wafa “Faraz”,
Dost gehrey hain to phir zakham bhi gehre honge
*****
अजब चराग हूँ दिन रात जल रहा हूँ “फराज़”,
मैं थक गया हूँ हवा से कहो बुझाये मुझे
Ajab charag hun din raat jal raha hun “Faraz”
Mai thakk gaya hun hawa se kaho bujhaye mujhe
*****
समंदर में ले जा कर फरेब मत देना “फराज़”
तू कहे तो किनारे पे डूब जाऊं मैं
Samandar me le jaa kar fareb mat dena “Faraz”,
Tu kahe to kinaare pe doob jaon main
*****
लाख ये चाहा के उसको भूल जाऊं “फराज़”
हौंसले अपनी जगह है, बेबसी अपनी जगह
Laakh ye chaaha ke usko bhool jaaun “Faraz”
Huaslein apni jagah hai, bebasi apni jagah
*****
तुम मुझे रूह में बसा लो “फराज़”,
दिल-ओ-जान के रिशते तो अकसर टूट जाया करते हैं
Tum mujhe Rooh me basa lo “Faraz”
Dil-O-Jaan ke rishte to aksar toot jaya karte hain
*****
इस अजनबी शहर में ये पत्थर कहां से आया “फराज़”
लोगों की इस भीड में कोई अपना ज़रूर है
Is ajnabi sehar me ye patthar kahan se aaya “Faraz”
Logon ki is bheed me koi apna zaroor hai
*****
हज़ूम-ए-गम मेरी फितरत बदल नहीं सकती “फराज़”,
मैं क्या करूं मुझे आदत है मुसकुराने की
Hazoom-E-Gam meri fitrat badal nahi sakti “Faraz”
Main kya karoon mujhe aadat hai muskurane ki
Advertisements