चढते सूरज के पुजारी तो लाखों हैं ‘फ़राज़’
डूबते वक़्त हमने सूरज को भी तन्हा देखा
Chadhte Sooraj ke pujari to laakhon hai Faraz
Doobte waqt humne sooraj ko bhi tanha dekha
*****
ज़िन्दगी तो अपने कदमो पे चलती है ‘फ़राज़’
औरों के सहारे तो जनाज़े उठा करते हैं
Zindgi to apne kadmo pe chalti hai Faraz
Auron ke sahaare to zanaaze utha karte hain
*****
मुझ से हर बार नज़रें चुरा लेता है वो ‘फ़राज़’,
मैंने कागज़ पर भी बना के देखी हैं आँखें उसकी
Mujh se har baar nazarein chura leta hai wo Faraz
Maine kaagaz par bhi bana ke dekhi hain aankhein uski
*****
सौ बार मरना चाहा निगाहों में डूब कर ‘फ़राज़’
वो निगाह झुका लेते हैं हमें मरने नहीं देते
Sau baar marna chaaha nigaahon mein doob kar Faraz
Wo nigaah jhuka lete hain humein marne nahin dete
*****
दिल के रिश्तों कि नज़ाक़त वो क्या जाने ‘फ़राज़’
नर्म लफ़्ज़ों से भी लग जाती हैं चोटें अक्सर
Dil ki rishton ki najaakat wo kya jaane Faraz
Narm lafzon se bhi lag jaati hain chote aksar
*****
कौन परेशां होता है तेरे ग़म से फ़राज़
वो अपनी ही किसी बात पे रोया होगा
Kaun pareshan hota hai tere gham se Faraz
Wo apni hi kisi baat pe roya hoga
*****
शिद्दते दर्द से शर्मिंदा नहीं मेरी वफ़ा फ़राज़,
दोस्त गहरे हैं तो फिर ज़ख्म भी गहरे होंगे
Shiddate dard se sharminda nahin meri wafa Faraz
Dost gehare hain to phir jakhm bhi gehare honge
*****
इतना तसलसुल तो मेरी साँसों में भी नहीं ‘फ़राज़’
जिस रवानी से वो शख्स मुझे याद आता है
Itna tasalsul to meri saanson mein bhi nahin Faraz
Jis rawaani se wo shakhs mujhe yaad aata hai
*****
मुझ से हर बार नज़रें चुरा लेता है वो ‘फ़राज़’
मैंने कागज़ पर भी बना के देखी हैं आँखें उसकी
Mujh se har baar nazarein chura leta hai wo Faraz
Maine kaagaz par bhi bana ke dekhi hain aankhein uski
*****
तेरी तलब में जला डाले आशियाने तक
कहाँ रहूँ मैं तेरे दिल में घर बनाने तक
Teri talab mein jala daale aashiyaane tak
Kahan rahoon main tere dil mein ghar banaane tak

 

Advertisements