वो ज़हर देता तो दुनीया की नज़रों में आ जाता “फराज़”
सो उसने यूँ किया के वक़्त पे दवा न दी
Wo Zehar deta to duniya ki nazaron me aa jata “Faraz”
So usne yun kiya ke waqt pe dwa na di
*****
मेरे दोस्तों की पहचान इतनी मुशिकल नहीं “फराज”
वो हँसना भूल जाते हैं मुझे रोता देखकर
Mere doston ki pehchaan itni musqil nahi “Faraz”
Wo hasna bhool jate hain, Mujhe rote dekh kar
*****
ये मासूमियत का कौन सा अंदाज है “फराज़”
पर काट के कहने लगे, अब तुम आज़ाद हो
Ye masoomiyat ka kaun sa andaaz hai “Faraz”
Parr kaat ke kehne lage, Ab tum aazaad ho
*****
हमने चाहा था इक ऐसे शख्स को “फराज”
जो आइने से भी नाजुक था, मगर था पत्थर का
Humne chaha tha ek aise shaksh ko “Faraz”
Jo aaine se bhi naazuk tha, Magar tha patthar ka
*****
मैं बचपन में ही रहता तो अच्छा था “फराज़”
हज़ारों हसरतें बरबाद की मैंने जवान होकर
Mai bachpan me hi rehta to accha tha “Faraz”
Hazaaron hasratein barbaad ki maine jawan hokar
*****
मुझे अपने किरदार पे इतना तो यकीन है “फराज़”
कोई मुझे छोड तो सकता है, मगर भुला नहीं सकता
Mujhe apne Qirdaar pe itna to yaqeen hai “Faraz”
Koi mujhe chorr to sakta hai, Magar bhula nahi sakta
*****
मिली सज़ा जो मुझे वो किसी खता पे नहीं “फराज़”
मुझ पे जुर्म साबित हुआ जो वफा का था
Mile sza jo mujhe wo kisi khata pe nahi “Faraz”
Mujh pe jurm saabit hua jo wafa ka tha
*****
अहसास के अंदाज बदल जाते हैं “फराज़”
वरना आँचल भी उसी धागे से बनता है और कफन भी
Ehsaas ke andaaz badal jaate hain “Faraz”
Warna aanchal bhi usi dhaage se banta hai aur Kafan bhi
*****
वो जिसके लिए हमने सारी हदें तोड दी “फराज़”
आज उसने कह दिया अपनी हद में रहा करो
Wo jiske liye humne saari hadein todd di “Faraz”
Aaj usne keh diya apni hadd me raha karo
*****
वैसे तो ठीक रहूँगा मैं उस से बिछड के “फराज़”
बस दिल की सोचता हूँ, धडकना छोड न दे
Waise to thik rahunga mai us se bichad ke “Faraz”
Bas dil ki sochta hoon, Dhadakna chor na de

 

Advertisements