इतनी सी बात पे दिल की धड़कन रुक गई “फ़राज़”
एक पल जो तसव्वुर किया तेरे बिना जीने का
Itani si baat pe dil ki dhadkan ruk gai “Faraz”
Ek pal jo tasvvur kiya tere bina jeene ka
*****
अपने ही होते हैं जो दिल पे वार करते हैं “फ़राज़”
वरना गैरों को क्या ख़बर की दिल की जगह कौन सी है
Apne hi hote hai jo dil pe war karte hai “Faraz”
Warna gairon ko kya khabar ki dil ki jagah kaun si hai
*****
कभी टूटा नहीं मेरे दिल से आपकी याद का तिलिस्म “फ़राज़”
गुफ़्तगू जिससे भी हो ख्याल आपका रहता है
Kabhi tuta nahin mere dil se aapki yaad ka tilism “Faraz”
Guftgoo jisse bhi ho khyal aapka rehata hai
*****
सवाब समझ कर वो दिल के टुकड़े करता है “फ़राज़”
गुनाह समझ कर हम उन से गिला नहीं करते
Sawaab samajh kar wo dil ke tukade karta hai “Faraz”
Gunaah samajh kar hum un se gila nahin karte
*****
आँखों में हया हो तो पर्दा दिल का ही काफी है “फ़राज़”
नहीं तो नकाबों से भी होते हैं इशारे मोहब्बत के
Aankhon mein haya ho to parda dil ka hi kaafi hai “Faraz”
Nahin to naqabon se bhi hote hain ishaare mohabbat ke
*****
कांच की तरह होते हैं गरीबों के दिल “फ़राज़”
कभी टूट जाते हैं तो कभी तोड़ दिए जाते हैं
Kaanch ki tarah hote hain gareebon ke dil “Faraz”
Kabhi toot jaate hain to kabhi tod diye jaate hain
*****
कुछ मुहब्बत का नशा था पहले हमको “फ़राज़”
 दिल जो टुटा तो नशे से मुहब्बत हो गई
Kuch muhabbat ka nasha tha pahale hamko “Faraz”
Dil jo tuta to nashe se muhabbat ho gai
*****
ऐसा डूबा हूँ तेरी याद के समंदर में “फ़राज़”
दिल का धड़कना भी अब तेरे कदमों की सदा लगती है
Aise dooba hoon teri yaad ke samandar me “Faraz”
Dil ka dhadakna bhi ab tere kadmon ki sda laggti hai
*****
इश्क की राह में दो हैं मंजिलें “फ़राज़”
या दिल में उतर जाना या दिल से उतर जाना
Ishq ki raah me do hain manzilein “Faraz”
Ya dil me utar jana, Ya dil se utar Jana
*****
राज़ ऐ दिल किसी को न सुनाना “फ़राज़”
दुनिया में सब हमराज़ बदल जाते हैं
Raaz-E-Dil kisi ko na sunana “Faraz”
Duniya me sab, Humraaz badal jate hain
*****
तुम मुझे रूह में बसा लो “फराज़”,
दिल-ओ-जान के रिशते तो अकसर टूट जाया करते हैं
Tum mujhe Rooh me basa lo “Faraz”
Dil-O-Jaan ke rishte to aksar toot jaya karte hain
*****
वैसे तो ठीक रहूँगा मैं उस से बिछड के “फराज़”
बस दिल की सोचता हूँ, धडकना छोड न दे
Waise to thik rahunga mai us se bichad ke “Faraz”
Bas dil ki sochta hoon, Dhadakna chor na de
*****
दिल के रिश्तों कि नज़ाक़त वो क्या जाने ‘फ़राज़’
नर्म लफ़्ज़ों से भी लग जाती हैं चोटें अक्सर
Dil ki rishton ki najaakat wo kya jaane Faraz
Narm lafzon se bhi lag jaati hain chote aksar
*****
तेरी तलब में जला डाले आशियाने तक
कहाँ रहूँ मैं तेरे दिल में घर बनाने तक
Teri talab mein jala daale aashiyaane tak
Kahan rahoon main tere dil mein ghar banaane tak
*****
जब भी दिल खोल के रोए होंगे, लोग आराम से सोए होंगे
वो सफ़ीने जिन्हें तूफ़ाँ न मिले, नाख़ुदाओं ने डुबोए होंगे
Jab bhi dil khol ke roye honge, log aaram se soye honge
Wo safeene jinhein toofaan na mile, nakhudaaon ne dubooye honge
*****
जी में जो आती है कर गुज़रो कहीं ऐसा न हो
कल पशेमाँ हों कि क्यों दिल का कहा माना नहीं
Jee mein jo aati hai kar gujaron kahin aisa na ho
Kal pasheman hon ki kyon dil ka kaha maana nahin
Advertisements