दोस्ती अपनी भी असर रखती है “‘फ़राज़”
बहुत याद आएँगे ज़रा भूल कर तो देखो
Dosti apni bhi asar rakhti hai Faraz
Bahut yaad aayenge jara bhool ke dekho
*****
मेरे दोस्त की पहचान यही काफी है
वो हर शख्स को दानिस्ता* खफा करता है
Mere dost ki pehchan yahi kaafi hai
Wo har shakhs ko danista khafa karta hai
*****
हम ने सुना था की दोस्त वफ़ा करते हैं “फ़राज़”
जब हम ने किया भरोसा तो रिवायत ही बदल गई
Ham ne suna tha ki dost wafa karte hai “Faraz”
Jab humne kiya bharosa to rivayat hee badal gai
*****
हजूम ए दोस्तों से जब कभी फुर्सत मिले
अगर समझो मुनासिब तो हमें भी याद कर लेना
Hajoom e doston se jab kabhi fursat mile
Agar samjho munasib to hame bhi yaad kar lena
*****
शिद्दत-ए-दरद से शर्मिंदा नहीं मेरी वफा “फराज़”
दोस्त गहरे हैं तो फिर जख्म भी गहरे होंगे
Shiddat-E-Dard se sharminda nahi meri wafa “Faraz”,
Dost gehrey hain to phir zakham bhi gehre honge
*****
इस अजनबी शहर में ये पत्थर कहां से आया “फराज़”
लोगों की इस भीड में कोई अपना ज़रूर है
Is ajnabi sehar me ye patthar kahan se aaya “Faraz”
Logon ki is bheed me koi apna zaroor hai
*****
ये कह कर मुझे मेरे दुश्मन हँसता छोड़ गए
तेरे दोस्त काफी हैं तुझे रुलाने के लिए
Ye kah kar mujhe mere dushman hansta chhod gaye
Tere dost kaafi hain tujhe rulane ke liye
*****
लाख बेमेहर सही दोस्त तो रखते हो “फ़राज़”
इन्हें देखो कि जिन्हें कोई सितमगर ना मिला
Laakh bemehar sahi dost to rakhte ho “Faraz”
Inhein dekho ki jinhein koi sitamgar na mila
*****
तुम तक़ल्लुफ़ को भी इख़लास समझते हो “फ़राज़”
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला
Tum takalluf ko bhi ikhlaas samjhte ho “Faraz”
Dost hota nahin har haath milaane waala
*****
मेरे दोस्तों की पहचान इतनी मुशिकल नहीं “फराज”
वो हँसना भूल जाते हैं मुझे रोता देखकर
Mere doston ki pehchaan itni musqil nahi “Faraz”
Wo hasna bhool jate hain, Mujhe rote dekh kar
Advertisements