पृथ्वी की भूगर्भीय उथल पुथल के कारण इस धरती पर समय समय पर कुछ रहस्यमयी और अचरज भरी घटनाएं घटती रहती है। ऐसी ही एक घटना हाल ही में ट्यूनिशिया के रेगिस्तान में घटी जब वीरान पड़े रेगिस्तान में रातो रात एक विशाल झील बन गई।

झील के बनने का कारण अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है हालांकि भू-वैज्ञानिकों का मानना है कि ये एक भूकंपीय प्रक्रिया है। किसी गड़बड़ी या उथलपुथल के चलते जमीन के नीचे का पानी सतह पर आ गया। बाकी पूरी हक़ीक़त तो जांच के बाद ही सामने आएगी।

कैसा है झील का आकार :
स्थानीय प्रशासन के मुताबिक, एक हेक्टेयर से ज्यादा की दूरी में फैली इस झील का आकार दस लाख घन मीटर हो सकता है। वहीं इसकी गहराई 10 से 18 मीटर तक हो सकती है। ये ट्यूनिशिया के गाफ्सा शहर में मौजूद है। यहां देश की माइनिंग इंडस्ट्री है और गाफ्सा शहर, फास्फेट माइंस का सबसे बड़ा ठिकाना है।

सदियों से हो रही है ऐसी घटनाएं :
रेगिस्तान में इस तरह जमीन से पानी निकलने की यह इकलौती घटना नहीं है। सदियों से भूगर्भीय परिवर्तन के कारण ऐसे चमत्कार रेगिस्तान में होते आए है। इस प्रक्रिया में कुछ भूगर्भीय गतिविधियों के कारण जमीन की गहराइयों से पानी सतह पर आकर इकठ्ठा हो जाता है और एक तालाब का रूप ले लेता है।  ऐसे तालाब भूगर्भीय भाषा में गुएल्टा (Guelta) कहलाते है। इनकी सबसे बड़ी विशेषता यह होती है की यह कभी सूखते नहीं है इनमे जमीन से सिमित मात्रा में जल निरंतर आता रहता है। ऐसा ही एक गुएल्टा विशव के सबसे बड़े रेगिस्तान सहारा में स्तिथ है जो की  ‘गुएल्टा दी आर्चेई’ के नाम से प्रसिद्द है।

ट्यूनिशिया के रेगिस्तान में अचानक बन गई झील एक गुएल्टा है या नहीं यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा।

Advertisements