यूरोप के सभी बड़े दार्शनिक मानते है की शरीर का आनंद ही चरम आनंद है और भारतवासी मानते है की इश्वर प्राप्ति का आनंद ही चरम आनंद है | इसीलिए यूरोप में जो भी किया जाता है वो शरीर के सुख के लिए किया जाता है और भारत में सब काम इश्वर प्राप्ति और मोक्ष प्राप्ति के लिए किया जाता है

 इस पोस्ट को देखने के लिए नीचे क्लिक करें

यूरोप और अमेरिका वाले सिर्फ शरीर का सुख चाहते है और सरीर का सुख एक तरीके से लेने के बाद उसमे उब हो जाती है फिर दुसरे तरीके से लेते है फिर उसमे उब होने के बाद तीसरे तरीके से …इसी तरह चलता है किउंकि शरीर का सुख ही सबकुछ है और वो ही जीवन का अंतिम लक्ष है | उनका मानना है के ये शरीर एक बार ही मिला है और आगे मिलेगा की नही पता नही क्योंकि न ही वो पुनर्जनम को मानते है न ही पुर्वजनम को इसीलिए शरीर का जितना सुख लेना है ले लो जितना भोग करना है कर लो उसके लिए समलैंगिकता में जाना पड़े तोह जाओ किसी और काम में जाना पड़े तोह चले जाओ | ये सब कुछ प्राप्ति है शरीर के माध्यम से इसीलिए पश्चिम में समलैंगिकता एक बहुत बड़ा प्रश्न है | पश्चिम के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को समलैंगिकता के प्रश्न पर चुनाव से पहले वादा करना पड़ता है, बाद में कानून भी बनाना पड़ता है उन लोगो के लिए |

                  इस पोस्ट को सुनने के लिए नीचे क्लिक करें


भारत के लोग पुर्वजनम और पुनर्जनम दोनों को मानते है और शरीर के सुख को कभी अंतिम सुख नही माना है तोह भारत में प्रश्न अलग है, मान्यता अलग है, उसके हिसाब से व्यवस्था भी अलग है इसलिए भारत में समलैंगिकता कोई बिषय नही है |
लेकिन पश्चिम की और पश्चिम की पैसो से पोषित मीडिया ने भारत में समलैंगिकता का विषय बनना चाहिए, इसपर बहस होनी चाहिए, समाज में बटवारा होना चाहिए उसकी पूरी ताकत लगाकर कौशिश कर रहे है | अगर भारतमे ये विषय चल पड़ा और भारत के लोगो द्वारा स्वीकृत हो गया तोह कितना बड़ा बाज़ार उनको भारत में मिल जायेगा समलैंगिक लोगो के बस्तुयों के बिक्री के लिए | उनको सिर्फ भारत का बाज़ार दिखाई देता है और भारत के मूल बिषय को बदलने के लिए इलेक्ट्रोनिक और प्रिंट मीडिया के जरिये कौशिश कर रहे है |

DOWNLOAD BUTTON PNG

Advertisements