सर्वप्रथम १८७९ ई० में डोक शैव ने मिट्टी का वर्गीकरण किया और मिट्टी को सामान्य और असामान्य मिट्टी में विभाजित किया। भारत की मिट्टियाँ स्थूल रूप से पाँच वर्गो में विभाजित की गई है:

1 (8)

  1. जलोढ़ मिट्टी या कछार मिट्टी (Alluvial soil),
  2. काली मिट्टी या रेगुर मिट्टी (Black soil),
  3. लाल मिट्टी (Red soil),
  4. लैटराइट मिट्टी (Laterite) तथा
  5. मरु मिट्टी (desert soil)

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) ने भारत की मिट्टी को आठ समूहों में बांटा है:

(1) जलोढ़ मिट्टी

(2) काली मिट्टी

(3) लाल एवं पीली मिट्टी

(4) लैटराइट मिट्टी

(5) शुष्क मृदा (Arid soils)

(6) लवण मृदा (Saline soils)

(7) पीटमय मृदा (Peaty soil) तथा जैव मृदा (Organic soils)

(8) वन मृदा (Forest soils)

 

 

 

 

Advertisements